Short Hindi Romantic Story | स्कूटी वाली गर्लफ्रेंड की लव स्टोरी 2024

Short Hindi Romantic Story | स्कूटी वाली गर्लफ्रेंड की लव स्टोरी 2024 – दोस्तों आज की यह लव स्टोरी (Short Hindi Romantic Story) लगभग 2 साल पहले की है जब मैं वीए फर्स्ट ईयर में था। मेरा नाम संदीप (बदला हुआ नाम) है। उस गर्मियों का मौसम चल रहा था और काफी तेज धूप निकल रही थी। उस समय मेरी b.a. की परीक्षाएं चल रही थी। एक दिन मैं किसी काम की वजह से घर से ही काफी देर से निकला था और मुझे कॉलेज के लिए जल्दी पहुंचना था। मेरे पापा भी किसी काम की वजह से बाहर गए हुए थे और मेरी बाइक रिपेयर होने के लिए गैराज पर थी।

Short Hindi Romantic Story | स्कूटी वाली गर्लफ्रेंड की लव स्टोरी 2024 –

जब मैं चुपचाप अपने घर से कॉलेज आ रहा था। तभी मुझे अचानक पीछे से एक स्कूटी ने टक्कर मारी। स्कूटी की टक्कर की वजह से मैं नीचे सड़क पर गिर गया और मेरी कोहानी तथा घुटने पर चोट लगी। मैंने गुस्से में पीछे मुड़कर देखा तो एक खूबसूरत लड़की खड़ी हुई थी और मुझसे माफी मांग रही थी। टक्कर मारने वाली लड़की होने की वजह से मैंने उससे कुछ भी नहीं कहा और उससे जाने के लिए कहा।

उस लड़की को देखते ही मेरा सारा गुस्सा गायब हो गया जैसे गलती मैंने खुद ने की हो। वह लड़की नीले कलर का जींस तथा हल्के गुलाबी कलर की टी-शर्ट पहने हुए थी। उन कपड़ों में वह लड़की काफी सुंदर दिख रही थी। उस लड़की ने अपने चेहरे पर स्कार्फ लगा रखा था। जिसकी वजह से मुझे उसकी आंखें ही दिख रही थी और आंखों पर लगा हुआ काजल। सच कहूं तो आज तक मैंने इतनी खूबसूरत लड़की पहले कभी नहीं देखी थी। Short Hindi Romantic Story

उसके मुंह से बस एक ही बात निकल रही थी – मुझे माफ कर दीजिए, मैं आपको अस्पताल लेकर चलती हूं। मुझे बैंक के लिए देर हो रही है, इसलिए यह सब कुछ हो गया। उसकी मीठी आवाज मुझे पूरी तरह से पागल बना रही थी। मैंने उसका चेहरा देखने के लिए गुस्से में कहा – आपको दिखाई नहीं देता क्या किस तरह से गाड़ी चलाती हो? अपना चेहरा दिखाना? उस लड़की ने तुरंत अपने चेहरे से स्कार्फ हटाया और मुझसे माफी मांगने लगी।

स्कार्फ हटाने के बाद जैसे ही मैंने उसका चेहरा देखा तो देखते ही रह गया। उस लड़की को देखते ही मेरा सारा गुस्सा पूरी तरह से शांत हो गया। एकदम बिना दाग धब्बों वाला मासूम सा चेहरा मुझे उसका दीवाना बना रहा था। उसके होठों पर हल्का गुलाबी लिपस्टिक लगा हुआ था। सच कहूं तो मुझे देखते ही उस लड़की से प्यार हो गया था। इतने में ही वह लड़की मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अस्पताल ले जाने की बात कहती है और मैं मना कर रहा था कि मुझे मामूली खरोंच आई है। Short Hindi Romantic Story

मेरे मना करने के बावजूद भी वह लड़की मुझे अपनी स्कूटी पर बैठाने की जिद करने लगी। मैं चुपचाप उसकी स्कूटी पर बैठ गया और वह मुझे अस्पताल लेकर पहुंच गई। वहां पर मेरा इलाज हो जाने के बाद मैंने उस लड़की से कहा – तुम चली जाओ, मैं यहां से ही कॉलेज के लिए निकल जाऊंगा। तभी उस लड़की ने कहा चलो कोई बात नहीं मैं आपको कॉलेज तक छोड़ देती हूं।

तभी उस लड़की ने मुझसे पूछा – आपको कौन से कॉलेज जाना है?

मैंने कहा – गवर्नमेंट पीजी कॉलेज में मेरा सेंटर आया है। Short Hindi Romantic Story

लड़की – उधर से ही तो मुझे भी जाना है कॉलेज रास्ते में ही आएगा, मैं आपको छोड़ दूंगी।

मैं कॉलेज जाने के लिए अस्पताल से ही उस लड़की के पीछे बैठ गया। उस लड़की की कपड़ों में लगी हुई परफ्यूम मुझे पूरी तरह से उसका दीवाना बना रही थी। थोड़ी देर बाद ही मेरा कॉलेज आ गया। उस लड़की ने स्कूटी को रोक दिया और पूछा ज्यादा दर्द तो नहीं हो रहा है ना?

मैंने कहा – हल्का दर्द महसूस हो रहा है लेकिन कोई बात नहीं।

उस लड़की ने स्कूटी को स्टार्ट किया तभी मैंने उससे पूछा – आपने अपना नाम नहीं बताया? Short Hindi Romantic Story

उसने कहा – आपने मुझसे पूछा ही नहीं था इसलिए नहीं बताया?

मैंने कहा – अब बता दो, क्या नाम है आपका?

फिर उसने जाते हुए मेरी और मुस्कुराते हुए देखा और कहा मेरा नाम कीर्ति है। मैं वहां से चुपचाप कॉलेज के अंदर चला जाता हूं और पेपर देने लगता हूं लेकिन मेरा दिमाग पूरी तरह से उस लड़की के बारे में ही सोच रहा था।

मैंने सबसे पहले ही पेपर पूरा कर लिया था और चुपचाप बैठकर सोच रहा था कि पता नहीं आज के बाद वह लड़की मुझे मिलेगी या नहीं। मेरे दिमाग के अंदर कई तरह के सकारात्मक और नकारात्मक विचार पैदा हो रहे थे। मैं पूरी तरह से कीर्ति का दीवाना बन गया था। मैं लगभग दो-तीन घंटे तक कॉलेज के सामने ही एक टी स्टॉल की दुकान पर बैठा रहा, क्योंकि मुझे कीर्ति से दोबारा मुलाकात करनी थी। Short Hindi Romantic Story

थोड़ी देर बाद मुझे कीर्ति आती हुई दिखाई देती है। मैं खड़ा होकर सड़क की ओर आने लगा ताकि कीर्ति को पता चल सके कि मैं यहां पर खड़ा हूं। मुझे देखकर कीर्ति स्कूटी रोक देती है और पूछते हैं अब दर्द कैसा है?

मैंने कहा – कोई प्रॉब्लम नहीं है लेकिन आप मुझे मेरे घर तक छोड़ देना।

उसने कहा – कोई बात नहीं छोड़ दूंगी।

मैंने उससे कहा जहां पर आपने मेरा एक्सीडेंट किया था वहां तक ले चलो आगे का रास्ता मैं बता दूंगा।

कीर्ति ने कहा – चलो चलते हैं।

मैं चुपचाप कीर्ति के पीछे बैठ गया। Short Hindi Romantic Story

यह भी पढ़े – सच्चे प्यार का पछतावा – Love Story Heart Touching in Hindi

बातचीत करते हुए हम दोनों घर की ओर आ रहे थे। कीर्ति ने मेरे परिवार के बारे में पूछा और मैंने कीर्ति के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर ली। क्या करती है, कब से नौकरी करती है, शादी हुई है या नहीं, घर में कितने सदस्य हैं, यानी पूरी जानकारी। इस तरह बातचीत करते हुए हम घर के पास पहुंच जाते हैं। मैंने कीर्ति से कहा – इधर ही रोक देना सामने वाला हमारा ही मकान है। तभी कीर्ति ने कहा – इस मकान से पीछे वाली गली में हमारा मकान है।

Short Hindi Romantic Story | स्कूटी वाली गर्लफ्रेंड की लव स्टोरी
स्कूटी वाली गर्लफ्रेंड की लव स्टोरी (Short Hindi Romantic Story)

मैंने कहा – ओह! अब तो मुलाकात होती ही रहेगी। कीर्ति भी वहां से रवाना हो जाती है। अगले दिन ठीक उसी अपने घर के सामने कीर्ति के आने का इंतजार कर रहा था। थोड़ी ही देर बाद कीर्ति मेरे पास आप पहुंचती है। आज तो मैं उसकी ड्रेस देखकर ही पागल हो रहा था। पीले रंग की टी-शर्ट तथा काले रंग का जींस पहने हुए सितम ढ़ा रही थी। मैंने कीर्ति से कहा – बहुत खूबसूरत लग रही हो। Short Hindi Romantic Story

कीर्ति – अच्छा! मुझे तो आज तक पता ही नहीं चला कि मैं इतनी खूबसूरत हूं।

मैंने कहा – शायद आपको किसी ने इतने नजदीक से नहीं देखा हो।

तभी कीर्ति ने कहा – बातें मत बनाओ चलो मुझे भी देर हो रही है।

मैंने कहा – आज स्कूटी मैं चलाउंगा तुम मेरे पीछे बैठना। तभी उसने मुझसे कहा – लेकिन आपके हाथ में तो चोट है। मैं – कोई बात नहीं मैं चला लूंगा।

कीर्ति मेरे पीछे बैठ जाती है। हम दोनों बातचीत करते हुए जा रहे थे, तभी मैंने कीर्ति से कहा – अगर आपको बुरा ना लगे तो एक बात कहूं।

कीर्ति – कहो, क्या बात है?

मैं – सच बताओ नाराज तो नहीं होंगे।

कीर्ति ने जवाब दिया – अब बता भी दो ना।

मैंने कहा चलो आज नहीं किसी और दिन बताऊंगा आज मेरा कॉलेज आ गया है। मैं कॉलेज पर उतर कर कीर्ति को जाने के लिए कहता हूं। Short Hindi Romantic Story

जाते समय कीर्ति ने कहा – क्या बात है जो मुझे नहीं बता रहे हो।

मैं – कुछ ही दिनों में अच्छा समय देखकर जरूर बताऊंगा।

इसके बाद मेरी और कीर्ति की मुलाकात हमारे पास के बाजार में भी होती रहती थी। जिसकी वजह से हम दोनों काफी करीब आ चुके थे, लेकिन कभी भी एक-दूसरे को प्रपोज नहीं किया था। इस तरह मुलाकात करते हुए लगभग एक माह गुजर गया। एक दिन में घरेलू सामान के लिए बाजार मैं गया था तभी मुझे कीर्ति दिखाई देती है।

मैंने कीर्ति से कहा – तुम यहां पर क्या कर रही हो?

कीर्ति – कुछ सब्जियां लेने आई हूं।

एक दिन मैंने कीर्ति का मोबाइल नंबर मांग लिया और उसने मुझे चुपचाप अपना नंबर दे दिया। अब हम दोनों की अधिकतर बातें मोबाइल पर ही होती रहती थी। मैं उसे प्रपोज करने की सोच रहा था। तभी मुझे कीर्ति कॉल कर देती है। मैंने पहले ही विचार बना लिया था कि आज उसे प्रपोज कर के ही रहूंगा। हम दोनों मोबाइल पर इधर-उधर की बातें कर रहे थे तभी मैंने कीर्ति से कहा – आपको उस दिन की बात याद है, जो मैं आपसे कहना चाहता था लेकिन कह नहीं पाया था। Short Hindi Romantic Story

कीर्ति ने कहा – चलो बताओ कौन सी बात है।

इधर उधर की बातें करने के बाद मैंने सीधा कहा – कीर्ति मैं तुमसे अपनी जान से भी अधिक प्यार करता हूं। इस बात को सुनकर वह थोड़ी देर चुप रही और फोन डिस्कनेक्ट कर दिया। मैंने उसको बार बार कॉल किया लेकिन कीर्ति मेरा कॉल काट रही थी। मैं निराश होकर चुपचाप बैठ गया। थोड़ी ही देर बाद मोबाइल पर मैसेज आने की रिंग बजती है। तब मैं देखता हूं कि कीर्ति ने मुझे “आई लव यू टू” लिख कर भेजा है।

अब मैं काफी खुश हो रहा था और उससे मिलने के लिए सीधा उसके घर पहुंच गया लेकिन अंदर जाने से डर रहा था। मैंने कीर्ति को कॉल किया और बताया कि – मैं आपके घर के सामने खड़ा हूं। कीर्ति ने कहा – यहां से चले जाओ पापा घर पर ही है। मैंने कहा – मैं तुमसे मिलना चाहता हूं। लेकिन कीर्ति बार-बार मना कर रही थी कि पापा घर पर ही है जिसकी वजह से मैं अब बाहर नहीं आ सकती हूं। Short Hindi Romantic Story

थोड़ी देर बाद में बाहर से अपने घर चला गया। अगले दिन कीर्ति ने बताया कि उसके माता-पिता बड़े भाई से मिलने के लिए मुंबई जा रहे हैं। मैं इस बात को सुनकर बहुत ही प्रसन्न हो रहा था। शाम के समय मैं घरवालों से झूठ बोलकर कहती के घर पहुंच गया। कीर्ति के अलावा घर पर कोई नहीं था। मैंने कीर्ति को कॉल करके बताया कि मैं अगले दस मिनट के अंदर आपके घर आ रहा हूं। कुछ ही देर बाद में कीर्ति के घर पहुंच जाता हूं और कीर्ति पहले से ही मेरा इंतजार कर रही थी।

जैसे ही मैं अंदर जाकर पहुंचा तो कीर्ति चाय बनाकर लाती है। चाय पीने के बाद मैंने कहा – तुम बहुत खूबसूरत हो। लेकिन कीर्ति कुछ और ही समझ रही थी जिसकी वजह से वह मुझसे दूर ही बैठी हुई थी। तभी मैंने कहा – कीर्ति मैं तुमसे प्यार करता हूं, तुम्हारे शरीर से नहीं। इस बात को सुनकर वह मेरे पास आकर बैठ जाती है। अब मुझ पर उसे पूरा विश्वास हो गया था। हम दोनों को बातचीत करते हुए लगभग रात के 11:00 बज चुके थे। तभी मैंने कहा मुझे जाना होगा मेरे घरवाले मेरा इंतजार कर रहे होंगे। Short Hindi Romantic Story

उसके बाद मैं वहां से निकल जाता हूं और अपने घर पहुंच जाता हूं। इस तरह से हमारा प्यार लगभग 2 सालों तक चला। इसी बीच मैंने हमारे प्यार की बातें अपनी मां को बता दी। मेरी मां के कारण ही आज हम दोनों पति-पत्नी के रूप में एक-दूसरे के साथ अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं। मैं कीर्ति को अपनी पत्नी के रूप में पाकर बहुत खुश हूं। कीर्ति की वजह से ही आज मैं पंजाब नेशनल बैंक में बैंक मैनेजर के पद पर कार्यरत हूं जबकि कीर्ति भारतीय स्टेट बैंक में मैनेजर के पद पर कार्यरत है। हम दोनों अपने जीवन में बहुत खुश है।

दोस्तों, आज की यह Short Hindi Romantic Story, हिंदी लव स्टोरी, Best Short Hindi Romantic Story और स्कूटी वाली गर्लफ्रेंड की लव स्टोरी पसंद आई हो, तो इस Love Story को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें। इस लव स्टोरी के बारें में हमे कमेंट करके जरुर बताये।

यह भी पढ़ें – मेरी और मेघा की लव स्टोरी | Love Story in Hindi Romantic

सच्चा प्यार | Best Couples Heart Touching Love Story In Hindi

School Love Story In Hindi कोचिंग क्लास की सच्ची प्रेम कहानी

रियल लव स्टोरी इन हिंदी-Story in Hindi Love Romantic

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button